बेस्ट नाराज़ कोट्स,पोएट्री

Naraz Shayari Quotes with Images,Naraz Shayari,Naraz Shayari Hindi,Naraz Shayari in English



बेस्ट नाराज़ कोट्स,पोएट्री


वे उम्र भर करते रहे इन्तेज़ार के कोई पैगाम आए मेरा,

और वो समझ बैठे थे के नाराज हैं हम उनसे।



Narazgi Shayari


गलती तो सबसे होती है, हाँ मुझसे भी हो गयी

अब माफ़ भी कर दे मुझे, क्यों दूर इतना हो गई

एक गलती के लिए क्यों ऐसे साथ छोड़ गयी.



कभी कभी मेरा मन भी नाराज होने का करता हैं,

पर ये सोच के खुश हो जाते हैं मनाएगा कौन।



नाराज हूँ मैं उससे, उसने मनाया भी नहीं,

वो लोगों से कहता फिरता है बेवफा हूँ मैं।



मेरी फितरत में नहीं है किसी से नाराज होना,

नाराज वो होते हैं जिनको अपने आप पर गुरुर होता है।



किसी को मनाने से पहले ये जान लेना

कि वो तुमसे नाराज है या परेशान।



जब से तुमने रुठे को मनाना छोड़ा दिया,

तब से हमने खुदा से भी नाराज होना छोड़ दिया।



खामोशियां ही बेहतर हैं,

शब्दों से लोग नाराज़ बहुत हुआ करते हैं।



Narazgi Shayari



जब जब आँखें बंद होती है,

बस तू साथ होती है

तेरी यादो के तकिये पर

बस राते मेरी सोती है

अब आजा बात मान कर

याद तेरी बहुत तड़पती है



Narazgi Shayari


हम रूठे भी तो किसके बहाने रूठे

कौन है जो आएगा हमें मनाने

हो सकता है तरस आ भी जाए आपको

पर दिल कहाँ से लाये आपसे रूठ जाने के लिए


Leave a Comment