25 Best Ever Chaand Shayari

 Chaand Shayari 

25 Best Ever Chaand Shayari

Kyu Meri Tarah Raton Ko Rahta Hai Pareshaan,

Ai Chaand Bata Kis Se Teri Aankh Ladi Hai.

क्यों मेरी तरह रातों को रहता है परेशान,

ऐ चाँद बता किस से तेरी आँख लड़ी है।

Chalo Chaand Ka Kirdaar Apna Len Ham,

Daag Apne Pas Rakhen Aur Roshni Baant Den.

चलो चाँद का किरदार अपना लें हम,

दाग अपने पास रखें और रौशनी बाँट दें।

Raat Bhar Aasmaan Mein Ham Chaand Dhoodhte Rahe,

Chaand Chupke Se Mere Aangan Mein Utar Aaya.

रात भर आसमां में हम चाँद ढूढ़ते रहे,

चाँद चुपके से मेरे आँगन में उतर आया।

Muntazir Hoon Ki Sitaron Ki Jara Aankh Lage,

Chaand Ko Chhat Pe Bula Loonga Ishara Karke.

मुन्तज़िर हूँ कि सितारों की जरा आँख लगे,

चाँद को छत पे बुला लूँगा इशारा करके।

Kabhi To Aasmaan Se Chaand Utre Jaam Ho Jaye,

Tumhare Naam Ki Ek Khoobsoorat Shaam Ho Jaye.

कभी तो आसमान से चाँद उतरे जाम हो जाए,

तुम्हारे नाम की एक ख़ूबसूरत शाम हो जाए।

Uske Chehre Ki Chamak Ke Samne Saada Laga,

Aasmaan Par Chaand Poora Tha… Magar Aadha Laga.

उसके चेहरे की चमक के सामने सादा लगा,

आसमाँ पर चाँद पूरा था… मगर आधा लगा।

Ek Ada Aapki Dil Churane Ki,

Ek Ada Aapki Dil Mein Bas Jane Ki,

Chehra Aapka Chaand Sa Aur Ek…

Hasrat Hamari Us Chaand Ko Pane Ki.

एक अदा आपकी दिल चुराने की,

एक अदा आपकी दिल में बस जाने की,

चेहरा आपका चाँद सा और एक…

हसरत हमारी उस चाँद को पाने की।

Ai Chaand Mujhe Bata Tu Mera Kya Lagta Hai,

Kyu Mere Saath Sari Raat Jagta Hai,

Main To Ban Baitha Hun Deewana Uske Pyar Mein,

Kya Tu Bhi Kisi Se Beintihan Ishq Karta Hai.

ऐ चाँद मुझे बता तू मेरा क्या लगता है,

क्यों मेरे साथ सारी रात जागता है,

मैं तो बन बैठा हूँ दीवाना उसके प्यार में,

क्या तू भी किसी से बेइन्तिहाँ इश्क करता है।

Kal Chaudhvi Ki Raat Thi Raat Bhar Raha Charcha Tera,

Kuchh Ne Kaha Ye Chaand Hai, Kuchh Ne Kaha Chehra Tera.

कल चौदहवी की रात थी रात भर रहा चर्चा तेरा,

कुछ ने कहा ये चाँद है, कुछ ने कहा चेहरा तेरा।

Ai Kash Hamari Qismat Mein Aisi Bhi Koi Sham Aa Jaye,

Ek Chaand Falak Par Nikla Ho Ek Chhat Par Aa Jaye.

ऐ काश हमारी क़िस्मत में ऐसी भी कोई शाम आ जाए,

एक चाँद फ़लक पर निकला हो एक छत पर आ जाए।

Chaand Mein Nazar Kaise Aae Teri Soorat Mujhko,

Aandhiyon Se Aasmaan Ka Rang Maila Ho Gaya.

चाँद में नज़र कैसे आए तेरी सूरत मुझको,

आँधियों से आसमाँ का रंग मैला हो गया।

Subah Hui Ki… Chhedne Lagta Hai Sooraj Mujhko,

Kahta Hai Bada Naaz Tha Apne Chaand Par Ab Bolo.

सुबह हुई कि… छेड़ने लगता है सूरज मुझको,

कहता है बड़ा नाज़ था अपने चाँद पर अब बोलो।

Poochho Is Chaand Se Kaise Sisakte The Ham,

Un Tanha Raaton Mein Takiye Se Lipatkar Rote The Ham,

Toone To Dekha Nahi Chhodne Ke Baad,

Dil Ka Har Ek Raaz Chaand Se Kahte The Ham.

पूछो इस चाँद से कैसे सिसकते थे हम,

उन तन्हा रातों में तकिये से लिपटकर रोते थे हम,

तूने तो देखा नही छोड़ने के बाद,

दिल का हर एक राज़ चाँद से कहते थे हम।

Kitna Haseen Chaand Sa Chehra Hai,

Us Par Shabab Ka Rang Gahra Hai,

Khuda Ko Yakeen Na Tha Wafa Par,

Tabhi Chaand Par Taaron Ka Pahara Hai.

कितना हसीन चाँद सा चेहरा है,

उस पर शबाब का रंग गहरा है,

खुदा को यकीन न था वफ़ा पर,

तभी चाँद पर तारों का पहरा है।

Dhudhta Hun Main Jab Apni Hi Khamoshi Ko,

Mujhe Kuchh Kaam Nahi Duniya Ki Baton Se,

Aasmaan De Na Saka Chaand Apne Daman Ka,

Maangti Reh Gayi Dharti Kayi Raaton Se.

ढूँढता हूँ मैं जब अपनी ही खामोशी को,

मुझे कुछ काम नहीं दुनिया की बातों से,

आसमाँ दे न सका चाँद अपने दामन का,

माँगती रह गई धरती कई रातों से।

Tujhko Dekha To Phir Usko Na Dekha Maine,

Chaand Kahta Rah Gaya Main Chaand Hoon Main Chaand Hoon.

तुझको देखा तो फिर उसको ना देखा मैंने,

चाँद कहता रह गया मैं चाँद हूँ मैं चाँद हूँ।

Aaj Tootega Guroor Chaand Ka Dekhna Dosto,

Aaj Maine Unhen Chhat Par Bula Rakha Hai.

आज टूटेगा गुरूर चाँद का देखना दोस्तो,

आज मैंने उन्हें छत पर बुला रखा है।

Mera Aur Chaand Ka Muqaddar Ek Jaisa Hai,

Wo Taaro Mein Akela Main Hajaaro Mein Akela.

मेरा और चाँद का मुक़द्दर एक जैसा है,

वो तारो में अकेला मैं हजारो में अकेला।

Chaand Bhi Hairan… Dariya Bhi Pareshani Mein Hai,

Aks Kis Ka Hai Ye Itni Roshni Paani Mein Hai.

चाँद भी हैरान… दरिया भी परेशानी में है,

अक्स किस का है ये इतनी रौशनी पानी में है।

Ishq Teri Inthaan Ishq Meri Inthaan,

Tu Bhi Abhi Na-Tamam Main Bhi Abhi Na-Tamam.

इश्क तेरी इन्तेहाँ इश्क मेरी इन्तेहाँ,

तू भी अभी न-तमाम मैं भी अभी न-तमाम।

Aasmaan Aur Zameen Ka Hai Fasla Har-Chand,

Ai Sanam Door Hi Se Chaand Sa Mukhada Dikhla.

आसमान और ज़मीं का है फासला हर-चंद,

ऐ सनम दूर ही से चाँद सा मुखड़ा दिखला।

Na Chahte Hue Bhi Mere Lab Par

Ye Phariyaad Aa Jaati Hai,

Ai Chaand Saamane Na Aaa

Sanam Ki Yaad Aa Jaati Hai.

न चाहते हुए भी मेरे लब पर

ये फरियाद आ जाती है,

ऐ चाँद सामने न आ

सनम की याद आ जाती है।

Wo Chaand Kah Ke Gaya Tha Ki Aaj Niklega,

To Intizaar Mein Baitha Hua Hun Sham Se Hi Main.

वो चाँद कह के गया था कि आज निकलेगा,

तो इंतिज़ार में बैठा हुआ हूँ शाम से ही मैं।

Ai Chaand Chala Ja Kyon Aaya Hai Tu Meri Chaukhat Par,

Chhod Gaya Wo Shakhs Jiske Dhokhe Mein Tujhe Dekhte The.

ऐ चाँद चला जा क्यों आया है तू मेरी चौखट पर,

छोड़ गया वो शख्स जिसके धोखे में तुझे देखते थे।

Raat Ko Roz Doob Jata Hai…

Chaand Ko Tairana Sikhana Hai Mujhe.

रात को रोज़ डूब जाता है…

चाँद को तैरना सिखाना है मुझे।

Mujhe Ye Zid Hai Kabhi Chaand Ko Aseer Karoon,

So Ab Ke Dariya Mein Ek Daera Banana Hai.

मुझे ये ज़िद है कभी चाँद को असीर करूँ,

सो अब के दरिया में एक दाएरा बनाना है।

Leave a Comment